Ghalib Shayari In Hindi

Ghalib Shayari (ग़ालिब शायरी) Mirza Ghalib Shayari, ghalib poetry, mirza ghalib shayari, ghalib quotes, ghalib ki shayari, mirza ghalib shayari in hindi, galib ki shayari, ghalib ke sher in hindi.

कितने शिरीन हैं तेरे लब के रक़ीब
गालियां खा के बेमज़ा न हुआ
कुछ तो पढ़िए की लोग कहते हैं
आज ग़ालिब गजलसारा न हुआ

kitane shireen hain tere lab ke raqeeb
gaaliyaan kha ke bemaza na hua
kuchh to padhie kee log kahate hain
aaj gaalib gajalasaara na hua

इस नज़ाकत का बुरा हो वो भले हैं तो क्या
हाथ आएँ तो उन्हें हाथ लगाए न बने
कह सके कौन के यह जलवागरी किस की है
पर्दा छोड़ा है वो उस ने के उठाये न बने

is nazaakat ka bura ho vo bhale hain to kya
haath aaen to unhen haath lagae na bane
kah sake kaun ke yah jalavaagaree kis kee hai
parda chhoda hai vo us ne ke uthaaye na bane

मेह वो क्यों बहुत पीते बज़्म-ऐ-ग़ैर में या रब
आज ही हुआ मंज़ूर उन को इम्तिहान अपना
मँज़र इक बुलंदी पर और हम बना सकते ग़ालिब
अर्श से इधर होता काश के माकन अपना

meh vo kyon bahut peete bazm-ai-gair mein ya rab
aaj hee hua manzoor un ko imtihaan apana
manzar ik bulandee par aur ham bana sakate gaalib
arsh se idhar hota kaash ke maakan apana

सबने पहना था बड़े शौक से कागज़ का लिबास
जिस कदर लोग थे बारिश में नहाने वाले
अदल के तुम न हमे आस दिलाओ
क़त्ल हो जाते हैं ज़ंज़ीर हिलाने वाले

sabane pahana tha bade shauk se kaagaz ka libaas
jis kadar log the baarish mein nahaane vaale
adal ke tum na hame aas dilao
qatl ho jaate hain zanzeer hilaane vaale

Mirza Ghalib Ki Shayari

मेह वो क्यों बहुत पीते बज़्म-ऐ-ग़ैर में या रब
आज ही हुआ मंज़ूर उन को इम्तिहान अपना
मँज़र इक बुलंदी पर और हम बना सकते ग़ालिब
अर्श से इधर होता काश के माकन अपना

meh vo kyon bahut peete bazm-ai-gair mein ya rab
aaj hee hua manzoor un ko imtihaan apana
manzar ik bulandee par aur ham bana sakate gaalib
arsh se idhar hota kaash ke maakan apana

सादगी पर उस के मर जाने की हसरत दिल में है
बस नहीं चलता की फिर खंजर काफ-ऐ-क़ातिल में है
देखना तक़रीर के लज़्ज़त की जो उसने कहा
मैंने यह जाना की गोया यह भी मेरे दिल में है

saadagee par us ke mar jaane kee hasarat dil mein hai
bas nahin chalata kee phir khanjar kaaph-ai-qaatil mein hai
dekhana taqareer ke lazzat kee jo usane kaha
mainne yah jaana kee goya yah bhee mere dil mein hai

दिल से तेरी निगाह जिगर तक उतर गई
दोनों को एक अदा में रजामंद कर गई
मारा ज़माने ने ग़ालिब तुम को
वो वलवले कहाँ वो जवानी किधर गई

dil se teree nigaah jigar tak utar gaee
donon ko ek ada mein rajaamand kar gaee
maara zamaane ne gaalib tum ko
vo valavale kahaan vo javaanee kidhar gaee

Leave a Comment

Your email address will not be published.

x